भारत में क्रिप्टोकरेंसी व्यापार

तरीके और व्यापार रणनीतियों

तरीके और व्यापार रणनीतियों
शुभ काल
अभिजीत मुहूर्त - दोपहर 12:06 – दोपहर 12:50
अमृत काल - सुबह 03:49 – सुबह 05:27
ब्रह्म मुहूर्त - सुबह 05:12 – सुबह 06:04 बजे तक

E-Rupee Launched: पहले ही दिन हुआ 1.71 करोड़ का लेन-देन, इन चार बैंकों में मिलेगी ई-रुपये की सुविधा

नई दिल्ली। भारतीय रिजर्व बैंक ने देश के चार प्रमुख शहरों दिल्ली, मुंबई, बेंगलुरु और भुवनेश्वर में डिजिटल रुपये के पायलट परीक्षण की शुरुआत कर दी है। प्रोजेक्ट के लिए चुने गए बैंकों की ओर से 1.71 करोड़ रुपये डिजिटल रुपये की मांग की गई। जिसमें चार बैंकों SBI, ICICI Bank, Yas Bank और IDFC First Bank के साथ ग्राहक और व्यापारी इसका लेनदेन कर सकेंगे। बैंकों की मांग के अनुरुप केंद्रीय बैंक ने डिजिटल रुपया जारी कर दिया।

आरबीआई की ओर से जारी किया गया ई-रुपया डिजिटल टोकन पर आधारित है। इसे केंद्रीय बैंक ही जारी कर सकता है और इसका मूल्य बैंक नोटों के समान ही है। इसे पेपर नोटों की तरह 2000, 500, 200,100, 50 और अन्य वैध डोनोमिनेशन में जारी किया गया है।

यह डिजिटल रुपया एक खास ई वॉलेट में सुरक्षित रहेगा, जिन्हें प्रोजेक्ट के लिए चुने गए बैंकों की ओर से उपलब्ध कराया जाएगा। यह वॉलेट बैंक की ओर से जारी किया जाएगा पर इसकी निगरानी का जिम्मा पूरी तरह से देश के केंद्रीय बैंक आरबीआई के पास होगा। ई-रुपये का इस्तेमाल पी2पी (पर्सन टू पर्सन) और पी2एम (पर्सन टू मर्चेंट) दोनों तरीके से किया जा सकेगा। इसके इस्तेमाल से यूपीआई और दूसरे ऑनलाइन माध्यम से होने वाले भुगतानों में लगने वाले अनावश्यक चार्जेज से भी छुटकारा मिलेगा।

यह भी पढ़ें | Vastu Tips: नए साल पर घर लाएं ये 5 चीजें, मिलेगी तरक्की, तरीके और व्यापार रणनीतियों होता रहेगा धन लाभ!

डिजिटल रुपये पर क्या है आर्थिक जानकारों की राय?
डिजिटल रुपये के बारे में पे-मी के सीईओ और संस्थापक महेश शुक्ला का मानना है कि डिजिटल रुपया, पारंपरिक मुद्रा का एक डिजिटल संस्करण है जिसका लोग रोजाना उपयोग करते हैं। इस तरीके से आप पैसे को डिजिटल फॉर्मेट में सुरक्षित रख सकते हैं। यह ब्लॉकचेन तकनीक पर आधारित है, जिसमें रुपये को एक क्रिप्टोकरेंसी की तरह माना जाता है, जो मुद्रा रखरखाव की लागत को कम करता है।

इससे आपको सुरक्षा तो मिलेगी ही साथ ही सरकार को भविष्य में कम नोट बनाने की जरुरत पड़ेगी क्योंकि डिजिटल रुपये को नकद मुद्रा का ही रूप माना जाएगा। वहीं, फिनवे एफएससी के सीईओ रचित तरीके और व्यापार रणनीतियों चावला के अनुसार, ई-रुपया, डिजिटल टोकन का एक नया रूप है।

यह क्रिप्टोकरेंसी से अलग है क्योंकि इसे पारंपरिक मुद्रा वाले मूल्यवर्ग में ही जारी किया जाता है और क्रिप्टोकरेंसी का अपना मूल्यवर्ग है। उदाहरण के लिए, बिटकॉइन इकाई में 0.001 मूल्यवर्ग हो सकता है जबकि डिजिटल मुद्रा 1, 5, 10, 20, 50 और भौतिक मुद्रा के लिए उपलब्ध अन्य मूल्यवर्ग में उपलब्ध होगी। डिजिटल रुपये का उपयोग करके आप किसी भी व्यक्ति को पैसे भेज सकते हैं या किसी भी बिल का भुगतान कर सकते हैं।

महत्त्वपूर्ण रिपोर्ट्स की जिस्ट

G20 सरकारों ने अनावश्यक खपत को बढ़ावा देने वाली अदक्ष जीवाश्म ईंधन की सब्सिडी को सीमित करने और चरणबद्ध तरीके से समाप्त करने की प्रतिबद्धता व्यक्त की है। यह सब्सिडी नकद हस्तांतरण, कर क्रेडिट एवं छूट और कम पेट्रोल की कीमतों सहित कई रूपों में मिलती है।

अंतर्राष्ट्रीय ऊर्जा एजेंसी (International Energy Agency-IEA) का अनुमान है कि इस तरह की सब्सिडी प्रतिवर्ष 526 बिलियन डॉलर होती है। इन सब्सिडी में कटौती करने से नवीन प्लास्टिक के उत्पादन की लागत में भी वृद्धि होगी जिससे प्लास्टिक रीसाइक्लिंग को बढ़ावा मिलेगा।

  • अदक्ष जीवाश्म-ईंधन सब्सिडी में सुधार के लिये कई सरकारें WTO की चर्चा में शामिल हो रही हैं।
  • G20 सरकारों ने वर्ष 2025 में पूरा करने के लक्ष्य के साथ जीवाश्म-ईंधन सब्सिडी की समीक्षा शुरू की है, जिसे और त्वरित किया जा सकता है।
  • WTO की पहल पारदर्शिता और रिपोर्टिंग को बढ़ावा दे सकती है और इन सब्सिडी से व्यापार और संसाधनों पर पड़ने वाले प्रभावों के मूल्यांकन को तेज कर सकती है। उद्योग बाजार प्रोत्साहनों के स्वच्छ प्रौद्योगिकियों में निवेश के प्रभाव को उजागर कर सकते हैं।

भारत-मध्य एशिया बैठक में अजीत डोभाल, आतंकवाद के खतरे से निपटने के तरीकों पर की चर्चा

Priyanka Sahu

दिल्ली, भारत। राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों, सुरक्षा परिषदों के सचिवों की आज मंगलवार को राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में पहली भारत-मध्य एशिया बैठक आयोजित हुई, जिसमें कजाकिस्तान, किर्गिस्तान, ताजिकिस्तान और उज्बेकिस्तान के शीर्ष अधिकारी शामिल हुए हैं और सुरक्षा सलाहकार (NSA) अजीत डोभाल ने बैठक में गणमान्य व्यक्तियों का स्वागत किया। यह पहला मौका है जब भारत मध्य एशियाई देशों के शीर्ष सुरक्षा अधिकारियों की मेजबानी की हो।

मध्य एशिया के साथ कनेक्टिविटी भारत के लिए एक प्रमुख प्राथमिकता है :

Aaj ka Panchang: आज द्वादशी तिथि, जानें मोक्षदा एकादशी व्रत के पारण का समय

Aaj ka Panchang: आज द्वादशी तिथि, जानें मोक्षदा एकादशी व्रत के पारण का समय

मोक्षदा एकादशी व्रत (वैष्णव), अखंड द्वादशी। सूर्य दक्षिणायन। सूर्य दक्षिण गोल। हेमंत ऋतु। आज शाम को 04 बजकर 30 मिनट से सायं 06.00 बजे तक राहुकाल रहेगा। इस समय कोई भी शुभ कार्य नहीं करें। 04, दिसंबर, रविवार,13, मार्गशीर्ष (सौर) शक 1944, 18, मार्गशीर्ष मास प्रविष्टे 2079, 09, जमादि-उल-अववल सन् हिजरी 1444, मार्गशीर्ष शुक्ल द्वादशी सुबह 05.58 मिनट (सूर्योदय से पूर्व) तक उपरांत त्रयोदशी, अश्विनी नक्षत्र सुबह 06.32 मिनट (सूर्योदय से पूर्व) तक। परिध योग, बव तरीके और व्यापार रणनीतियों करण। चंद्रमा मेष राशि में दिन-रात। आज एकादशी व्रत का पारणा दोपहर 1 बजे से दोपहर 3 बजे तक किया जा सकता है।

विदेश की खबरें | बड़ी तंबाकू कंपनियों के अपनी छवि दुरूस्त करने के प्रयास इतने खतरनाक क्यों हैं

विदेश की खबरें | बड़ी तंबाकू कंपनियों के अपनी छवि दुरूस्त करने के प्रयास इतने खतरनाक क्यों हैं

टोरंटो, पांच दिसंबर (द कन्वरसेशन) सितंबर में, ब्रिटिश अमेरिकन टोबैको की कनाडाई सहायक कंपनी इंपीरियल टोबैको कनाडा को "ग्रेट प्लेस टू वर्क” प्रमाणपत्र प्रदान किया गया, जो कार्यस्थल संस्कृति पर अग्रणी सम्मानों में से एक है।

तब से, इंपीरियल टोबैको कनाडा के प्रतिनिधियों ने टोरंटो विश्वविद्यालय के रोटमैन स्कूल ऑफ मैनेजमेंट, यॉर्क यूनिवर्सिटी के शुलिच स्कूल ऑफ बिजनेस और तरीके और व्यापार रणनीतियों मैकगिल यूनिवर्सिटी के डेसटेल्स फैकल्टी ऑफ मैनेजमेंट सहित देश भर तरीके और व्यापार रणनीतियों के स्नातक छात्रों से मुलाकात कर छात्रों से आग्रह किया कि "एक बेहतर कल का निर्माण करें, हमारे साथ आएं"।

रेटिंग: 4.44
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 520
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *