फॉरेक्स मार्केट

इंट्राडे ट्रेडिंग करने का Tips

इंट्राडे ट्रेडिंग करने का Tips
इसलिए सबसे पहले मार्किट रिसर्च करनी चाहिए जिस पैसे कमाने के ज्यादा चांस हो और डुबाने के कम चांस हो इस आर्टिकल में हम आपको कुछ टिप्स बतायेंगे जिस से इंट्राडे स्टॉक सेलेक्ट करके अच्छे पैसे कमा सकते है |

इंट्राडे ट्रेडिंग टिप्स? रोज़ पैसे कमाए [2022] | Intraday Trading Tips in Hindi

दोस्तों क्या आप इंट्राडे ट्रेडिंग के बहुत सारे टिप्स को जानकर शेयर मार्किट से करोड़ों रुपए कमाना चाहते हैं अगर हाँ तो यह पोस्ट सिर्फ आपके लिए ही है इंट्राडे ट्रेडिंग करने का Tips क्यूंकि इस पोस्ट में मैंने इंट्राडे ट्रेडिंग के कई सारे टिप्स को बताया है – Intraday Trading Tips in Hindi.

Table of Contents

इंट्राडे ट्रेडिंग टिप्स – Intraday Trading Tips in Hindi

रेगुलर शेयर बाजार में निवेश करने की तुलना में इंट्राडे ट्रेडिंग जोखिम भरा है. घाटे से बचने के लिए, विशेष रूप से शुरुआती लोगों के लिए, इस तरह के ट्रेडिंग की मूल बातें समझना महत्वपूर्ण है. इंट्राडे ट्रेडिंग में आपको केवल उतनी ही राशि का निवेश करें जो की अगर डूब जाए तो आप उसे सह सके.

इंट्राडे ट्रेडिंग क्या है? – Intraday Trading Kya Hai in Hindi

जब कोई निवेशक किसी एक शेयर को खरीदकर वह उस शेयर को उसी दिन मार्किट बंद होने से पहले बेच देता है तो इसे इंट्राडे ट्रेडिंग कहा जाता है. इसमें आप एक ही दिन में लाखों रूपए भी कमा सकते हो और गवां भी सकते हो इसलिए आपको इसके बारे में अच्छी जानकारी होना काफी जरुरी है

नीचे दी गयी इंट्राडे ट्रेडिंग टिप्स से निवेशकों को सही निर्णय लेने में मदद मिलेगी.

दो या तीन लिक्विड शेयर चुनें

इंट्राडे ट्रेडिंग में ट्रेडिंग समय के अंत से होने से पहले सभी शेयर्स को बेचना होता है. यही कारण है कि दो या तीन लार्ज-कैप शेयरों को चुनने की सिफारिश की जाती है जो अत्यधिक तरल अर्थात जिसमे ज्यादा पैसा लगा होता हैं. मिड-साइज़ या स्मॉल-कैप में निवेश करने से निवेशक को कम ट्रेडिंग वॉल्यूम के कारण इन शेयरों को रखना पड़ सकता है.

प्रवेश और Target Price निश्चित करें

प्रवेश स्तर का मतलब है आप किसी शेयर को कितने price में खरीदना चाहते हैं और लक्ष्य मूल्य (Target Price) का अर्थ है आप उसी शेयर को कितने price पर बेचना चाहते हैं.

कोई भी शेयर खरीदने से पहले, आपको अपना प्रवेश स्तर (Entry Level) और लक्ष्य मूल्य (Target Price) निर्धारित करना होगा. शेयर खरीदने के बाद किसी व्यक्ति के मनोविज्ञान में बदलाव आना आम बात है. नतीजतन, आप कीमत में मामूली वृद्धि देखने पर भी बेच सकते हैं. इसके कारण, आप मूल्य वृद्धि के कारण उच्च लाभ का लाभ उठाने का अवसर खो सकते हैं.

Groww App से इन्वेस्टमेंट शुरू करें → Click here

कम प्रभाव के लिए स्टॉप लॉस का उपयोग करें

यदि शेयर कीमत एक निर्धारित सीमा से नीचे आती है तब स्टॉप लॉस का उपयोग शेयरों को स्वचालित (Automatic) रूप से बेचने के लिए किया जाता है, यह स्टॉक की कीमतों में गिरावट के कारण निवेशकों के लिए होने वाले नुकसान को कम करने में फायदेमंद है.

जिन निवेशकों ने शॉर्ट सेलिंग का इस्तेमाल किया है अगर शेयर की कीमत उनकी उम्मीदों से अधिक हो जाती है उनके लिए स्टॉप लॉस नुकसान को कम करता है. यह इंट्राडे ट्रेडिंग रणनीति यह सुनिश्चित करती है कि आपके निर्णय से भावनाएं समाप्त हो जाएं.

लक्ष्य पूरा होने पर अपना मुनाफा बुक करें

अधिकांश दिन व्यापारी भय या लालच से पीड़ित होते हैं. निवेशकों के लिए न केवल अपने घाटे में कटौती करना महत्वपूर्ण है, बल्कि लक्ष्य मूल्य (Target Price) तक पहुंचने के बाद अपना मुनाफा भी बुक करना है. यदि व्यक्ति को लगता है कि स्टॉक की कीमत में और बढ़ोतरी की संभावना है, तो इस उम्मीद से मेल खाने के लिए स्टॉप लॉस ट्रिगर को फिर से adjust किया जाना चाहिए.

अपनी इच्छा सूची पर अच्छी तरह से शोध करें

निवेशकों को सलाह दी जाती है कि वे अपनी इच्छा सूची (जो शेयर खरीदना हैं) में 8 से 10 शेयरों को शामिल करें और इन पर गहराई से शोध करें. कॉर्पोरेट घटनाओं, जैसे विलय, बोनस तिथियां, स्टॉक विभाजन, लाभांश भुगतान इत्यादि के बारे में उनके तकनीकी स्तरों के साथ जानना महत्वपूर्ण है. प्रतिरोध (Resistance) और समर्थन (Support) स्तर खोजने के लिए इंटरनेट का उपयोग करना भी फायदेमंद होगा.

बाजार के खिलाफ मत जाओ

यहां तक ​​कि उन्नत उपकरणों वाले अनुभवी पेशेवर (Expert) भी बाजार के उतार-चढ़ाव की भविष्यवाणी करने में सक्षम नहीं हैं. ऐसे समय होते हैं जब सभी तकनीकी कारक (Factors) बुल मार्केट को दर्शाते हैं; हालाँकि, अभी भी गिरावट हो सकती है. ये कारक केवल सांकेतिक हैं और कोई गारंटी नहीं देते हैं. यदि बाजार आपकी अपेक्षाओं के विरुद्ध चलता है, तो भारी नुकसान से बचने के लिए अपनी स्थिति से बाहर निकलना महत्वपूर्ण है.

निवेश रणनीति की योजना बनाएं और उस पर टिके रहें

हर बार जब आप कोई ट्रेड शुरू करते हैं, तो इसके लिए यह महत्वपूर्ण होता है कि आपके पास इंट्राडे ट्रेडिंग कैसे करें, इसकी स्पष्ट योजना होनी चाहिए. Trading शुरू करने से पहले प्रवेश और निकास मूल्य निर्धारित करना महत्वपूर्ण है.

स्टॉप लॉस ट्रिगर का उपयोग करके अपनी स्थिति पर संभावित नुकसान को कम करना सबसे महत्वपूर्ण इंट्राडे ट्रेडिंग युक्तियों में से एक है. इसके अलावा, एक बार जब स्टॉक लक्ष्य मूल्य प्राप्त कर लेता है, तो उपयोगकर्ताओं को सलाह दी जाती है कि वे अपनी स्थिति को बंद कर दें, और लालची न हों और उच्च लाभ की उम्मीद करें.

छोटी मात्रा में निवेश करें

Trading बाजार अस्थिर हैं और अनुभवी पेशेवरों के लिए भी Trends की भविष्यवाणी करना आसान नहीं है. ऐसी स्थितियों में, शुरुआती आसानी से अपना सारा निवेश खो सकते हैं. यही कारण है कि एक महत्वपूर्ण इंट्राडे टिप छोटी रकम का निवेश करना है जिसे उपयोगकर्ता खोने का जोखिम उठा सकता है.

तरल (Liquid) स्टॉक चुनें

इंट्राडे ट्रेडिंग शुरू करने से पहले, शेयर बाजार की मूल बातें और मौलिक और तकनीकी विश्लेषणों को समझने की सिफारिश की जाती है. इंटरनेट पर बहुत सारे शोध उपलब्ध हैं और इसे पढ़ने के लिए समय निकालना फायदेमंद होगा. इसके अलावा, ऐसे सैकड़ों स्टॉक हैं जिनका इक्विटी बाजारों में कारोबार होता है और व्यापारियों को केवल दो इंट्राडे ट्रेडिंग करने का Tips या तीन तरल शेयरों का ही व्यापार करना चाहिए. लिक्विड स्टॉक वे शेयर होते हैं जिनकी इंट्राडे मार्केट में काफी अध्क मात्रा होती है. यह व्यापारियों को ट्रेडिंग सत्र के अंत से पहले खुली स्थिति से बाहर निकलने की अनुमति देता है.

हमें आशा है की यह पोस्ट पढ़ने के बाद आपको इंट्राडे ट्रेडिंग के टिप्स () के बारे में पता चल गया होगा और आप यह भी जान गए होंगे की इंट्राडे ट्रेडिंग क्या है?

विकास तिवारी इस ब्लॉग के मुख्य लेखक हैं. इन्होनें कम्प्यूटर साइंस से Engineering किया है और इन्हें Technology, Computer और Mobile के बारे में Knowledge शेयर करना काफी अच्छा लगता है.

Intraday के लिए Stock कैसे चुने intraday Stock Kaise Select Kare

आज बहुत से इन्वेस्टर इंट्राडे ट्रेडिंग करते है क्योकि इसके अन्दर अच्छा पैसा कमाया जा सकता है और यही सोच कर बहुत से इन्वेस्टर इसके अन्दर ट्रेडिंग करते है लेकिन बहुत से इन्वेस्टर बिना सोचे स्टॉक सेलेक्ट करते है लोस में चले जाते है और अपना पैसा डूबा देते है

intraday Stock Seletion Tips

इसलिए सबसे पहले मार्किट रिसर्च करनी चाहिए जिस पैसे कमाने के ज्यादा चांस हो और डुबाने के कम चांस हो इस आर्टिकल में हम आपको कुछ टिप्स बतायेंगे जिस से इंट्राडे स्टॉक सेलेक्ट करके अच्छे पैसे कमा सकते है |

इंट्राडे ट्रेडिंग क्या होती है intraday Stock Seletion Tips

इंट्राडे trading का मतलब है शेयर का एक ही दिन में खरीद कर उसी दिन बेच देना. जैसे की शेयर मार्केटिंग में शेयर को कम पैसो में खरीद के ज़्यादा पैसो में बेचना होता है. वैसे ही intraday trading में आपको शेयर को खरीदना है और कम time में पैसे बढ़ने पर शेयर को उसी दिन बेच देना होता है. intraday Stock Seletion Tips

Intraday trading risky है, आपने जो शेयर ख़रीदा उसके पैसे उस दिन बढ़ेंगे या नहीं ये कोई नहीं कह सकता. इसलिए Intraday trading करने वाले ज़्यादातर full time investor होते है. जो हर वक़्त monitor पर निगहा रख, शेयर के prices को predict करने की कोशिश करते है.

Intraday के लिए Stock कैसे चुने

इंट्राडे Stock Selecton :-

अधिक VOLATILITY वाले शेयर खरीदना :- इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए ज्यादा VOLATILITY वाले शेयर सही रहते है क्योकि Volatility का मतलब है शेयर के पैसो का जल्दी जल्दी कम या ज़्यादा होते रहना और Intraday trading में आप तभी फ़ायदा उठा सकते है जब शेयर का पीछे बहुत ज्यादा कम ज्यादा होता हो

और इसमें आप दोनों साइड रुपये कमा सकते है इसमें प्राइस कम होता है तो भी और बढ़ते है तो भी इसलिए आज बहुत से लोग Intraday के अंदर अच्छे पैसे कमाते है |

अच्छी Liquidity वाले शेयर ख़रीदे :- जिस शेयर में अच्छी Liquidity होती है उस शेयर से इन्वेस्टर अच्छे पैसे कमाते है क्योकि Liquidity से मतलब है की बहुत सारे share का market में available होना जिस से आसानी से उस शेयर को बेच सकते है और खरीद सकते है और अच्छे पैसे कमा सकते है

गर खरीदार और बेचनेवाले कम होंगे तब हो चकता है जिस वक्त आप शेयर को Sell करना चाहते हो उस वक्त आपको खरीदार ही ना मिले। इसलिए आपको Intraday के लिए ज्यादा Liquidity स्टॉक में ही ट्रेडिंग करना चाहिए।

ज्यादातर जो कंपनी बड़ी होती है उसमे उतना ही ज्यादा Buyer और Seller मजूद होता है। इसलिए आपको Large cap Stocks को सेलेक्ट करना चाहिए। इसमें आपको हर सेकंड पर खरीदार और बेचनेवाले मिल जायेंगे।

Top Gainers/ Top Loosers स्टॉक चुने :- इंट्राडे ट्रेडिंग में ऐसे स्टॉक को सेलेक्ट करे जो या तो बहुत ज्यादा ऊपर हो या फिर बहुत ज्यादा डाउन हो यानि आपको Top Gainers/ Top Loosers स्टॉक चुने चाहिए तो पिछले दिन के Gainers और Loosers स्टॉक के Chart को देखना चाहिए। अगर कोई स्टॉक ऊपर या नीचे जाने का पहला दिन हैं। तो आपको एसी स्टॉक को Intraday के लिए लेना चाहिए।

सेक्टर के आधार पर स्टॉक चुने :– ज्यादा VOLATILITY वाले सेक्टर सही रहते है आप ध्यान रखे मार्केट में पिछले दिन किन सेक्टर में ज्यादा ऊपर नीचे हुआ है। आपको उसमे नजर रखनी चाहिए और उसी सेक्टर के स्टॉक सेलेक्ट करे |

FIX PROFIT लेकर शेयर बेच दे :- इसके अन्दर ज्यादा लालच न करे और एक फिक्स प्रॉफिट लेके शेयर सेल करे |

इंट्रा डे के लिए सबसे अधिक volatile शेयर एनएसई

Most volatile stock NSE for intraday :- जिस शेयर में प्राइस का मूवमेंट ज्यादा होता हैं उसको ही इंट्राडे के लिए सबसे बढ़िया शेयर माना जाता हैं |

  • mahindra and mahindra – इस कंपनी का शेयर में आप बड़े आसानी से इंट्राडे का सौदा ले सकते हैं इसमें हर दिन 5 से 30 रूपए का मूवमेंट बना रहता हैं इसलिए आप आसानी से रोज इसमें आधा से 1% तक का मुनाफा कमा सकते हैं और इसका रोज का वॉल्यूम 5 से 20 लाख का है ।
  • bajajfinsv – इस शेयर में रोज आप आसानी से केवल एक शेयर में पैसा लगाकर 100 रूपया तक कमा सकते हैं और इसमें यदि एक महीने की एवरेज वॉल्यूम की बात करे तो 2 से 5 लाख तक का हैं ।
  • bajajfinance – इसमें रोज 10 से 25 लाख का वॉल्यूम आता है जिसके कारण यह शेयर ज्यादा मोलेटाइल रहता हैं और इसके प्राइस में मेभी उतार चढ़ाव ज्यादा रहता हैं ।
  • maruti – इसके रोज प्राइस में 50 से 300 रूपए तक के मूवमेंट रहती हैं और वॉल्यूम 5 से इंट्राडे ट्रेडिंग करने का Tips 10 लाख के बीच है और इस लिहाज से आप इसको भी अस्थिर शेयर नसे मान सकते हैं ।
  • hdfc – इसमें वॉल्यूम 30 से 50 लाख रोज का आता हैं और यह कम प्राइस का शेयर होने के कारण इसके प्राइस का मूवमेंट 50 से 100 रूपए तक हैं ।
  • icici bank – इसमें प्राइस का अंतर 20 से 100 रुपये तक का रहता हैं और वॉल्यूम इसमें 1 से 3 करोड़ तक रोज का है जो की सबसे ज्यादा हैं ।
  • jswsteel – इस शेयर में रोज 80 लाख से 5 करोड़ तक का वॉल्यूम आसानी से देखने को मिल जाता है और इस वजह से आप इसमें भी इंट्राडे के लिए शेयर को खरीद सकते हैं , इसकी प्राइस वॉल्यूम में डिफरेंस 20 से 100 तक का रहता है इस कारण इसमें आप 1 से 3 % का मुनाफा रोज कमा सकते हैं ।
  • sbi – यह एक बैंक सेक्टर का शेयर है जिसका वॉल्यूम इंट्राडे के दौरान 3 से 5 करोड़ हैं और प्राइस में मूवमेंट 10 से 30 रूपए तक रहता हैं इसमें भी आप रोज इंट्राडे का दाव खेल सकते हैं ।
  • heromotoco – यह ऑटोसेक्टर का दमदार शेयर हैं जिसकी रोज की वॉल्यूम 7 से 15 लाख रहती हैं और इसके प्राइस मूवमेंट में 20 से 100 रूपया तक का अंतर रहता है और इसमें आप रोजाना 1 % का मुनाफा आराम से कमा सकते हैं ।
  • kotakbank – यह प्राइवेट बैंक का सबसे बढ़िया शेयर हैं जिसका रोज का ओलुमे 30 से 50 लाख के बिच रहता हैं और कम प्राइस का शेयर होने के कारण इसमें 20 से 100 रूपए का अंतर रोज देखने को मिल जाता हैं इस शेयर में आप रोज 1 से 3 % का मुनाफा आराम सेबना सकते हैं बस आपको थोड़ा आपने स्ट्रेटेजी पर म्हणत करने की जरुरत पड़ेगी ।

इंट्राडे ट्रेडिंग नई रूल्स 2021 intraday Stock Seletion Tips

Intraday Trading New Rules 2021 :-एक मार्च 2021 से इंट्राडे के लिए नए नियम लागू हुए है जिसमे यदि आप अपने पैसे से इंट्राडे करना चाहते हैं तो कोई बात नहीं है लेकिन आप कोई लवरेज के द्वारा इंट्राडे में कोई सौदा खरीदना चाहते हैं तो आपके अकॉउंट में 10 % अमाउंट होना जरुरी हैं ।

यदि आपको यह intraday Stock Seletion Tips Hindi की जानकारी पसंद आई या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter और दुसरे Social media sites share कीजिये |

Intraday trading tips in Hindi – इंट्राडे ट्रेडिंग टिप्स

Intraday trading tips in Hindi – इंट्राडे ट्रेडिंग टिप्स – आज के समय में लोग, गूगल प्ले स्टोर पर मौजूद बहुत से एंड्राइड ऐप का इस्तेमाल करके ट्रेडिंग करते हैं. ज्यादातर लोग इसमें इंट्राडे ट्रेडिंग करके अच्छी खासी कमाई भी कर लेते हैं.

अगर आप भी उन सारे लोगों में शामिल है जो इंट्राडे ट्रेडिंग करते हैं. तो यह आपके लिए है. आप इंट्राडे ट्रेडिंग के माध्यम से हर दिन अच्छी खासी कमाई कर सकते हो. आज हम आपको इंट्राडे ट्रेडिंग के कुछ टिप्स बताने वाले हैं. इंट्राडे ट्रेडिंग के माध्यम से आप एक निश्चित आय भी प्राप्त कर सकते हैं.

Intraday trading tips in Hindi – इंट्राडे ट्रेडिंग टिप्स

आज के समय में ज्यादातर लोग शेयर बाजार से वाकिफ है. शेयर बाजार पर ट्रेडिंग करने के बहुत सारे तरीके हैं. इनमें से एक प्रसिद्ध तरीका शेयर बाजार पर इंट्राडे ट्रेडिंग करने का है. यह आसान तरीका भी है क्योंकि आप इसके जरिए थोक में किसी शेयर को उसी दिन खरीदते हो और उसी दिन आपको 3:00 बजे से पहले उसे बेचना भी होता है. इस तरह का ट्रेडिंग इंट्राडे ट्रेडिंग चलाता है.

हर बनाया व्यक्ति जो शेयर बाजार से कुछ लाभ कमाना चाहता है उसकी पहली पसंद इंट्राडे ट्रेडिंग ही होती है क्योंकि वह इस पर जल्दी आकर्षित होता है. इसके जरिए उसे जल्दी लाभ मिल सकता है.

इंट्राडे ट्रेडिंग एक ही दिन में आप किसी शेयर या इंडेक्स को खरीद करके बेचते हो. यह भारतीय शेयर बाजार में किए जाने वाला सबसे बड़ा और सबसे ज्यादा किया जाने वाला ट्रेडिंग है. इस ट्रेनिंग में आप कम पैसों से अधिक से अधिक खरीद सकते हैं यानी कि ट्रेडर को एक निश्चित मार्जिन मनी रखना होता है. जिसके जरिए व इंट्राडे ट्रेडिंग कर सकता है. इंट्राडे ट्रेडिंग को इसलिए भी जाना जाता है क्योंकि आप कम पैसे से जल्दी पैसा बना सकते हो.

लेकिन, इंट्राडे ट्रेडिंग पर आपको इस बात का भी ध्यान रखना है कि यह जोखिमों के अधीन होती है. इसलिए इंट्राडे ट्रेडिंग करने से पहले आप इसके जोखिमों के बारे में आपको पता होना चाहिए.

इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए कुछ रणनीति टिप्स

यार रणनीति नियमित निवेश की तुलना में अधिक जोखिम भरा होता है. इंट्राडे ट्रेडिंग में शेयर को एक ही दिन में एक निश्चित समय के अंतराल में खरीदना और एक निश्चित समय के अंतराल में ही बेचना होता है. चाहे इसमें आपको फायदा हो या फिर नुकसान.

इस पूरे ट्रेड में शेयर की डिलीवरी नहीं की जाती है. बल्कि ट्रेड को उसी ट्रेडिंग देने मार्केट बंद होने से पहले बेचना या स्क्वायर ऑफ करना होता है. इंट्राडे ट्रेडिंग में शेयर की कीमत में हो रहे उतार-चढ़ाव का लाभ आप उठा सकते हो. ग्रे ट्रेडिंग में अधिक नुकसान से बचने के लिए विशेष तौर पर उन लोगों के लिए जो शेयर बाजार में शुरुआत कर रहे हैं कुछ टिप्स हम नीचे दे रहे हैं.

एक बार में दो से तीन शेयर ना खरीदें :- अगर आप शेयर मार्केट में गए हैं तो हमारी असला रहेगी कि इंट्राडे ट्रेडिंग के दौरान आप एक बार में दो या तीन शेयर का चुनाव ना करें. जहां तक संभव हो लार्ज कैप शेयर में ही ट्रेडिंग करें.

शेयर का ट्रेंड क्या चल रहा है? यह भी जानना जरूरी है:- जब आप किसी शेयर इंट्राडे ट्रेडिंग करने का Tips पर इंट्राडे ट्रेडिंग पर ट्रेड करने जाते हो, तो इस बारे में आपको पता होना चाहिए कि शेयर का ट्रेंड चाचा है. यानी कि शेयर का ट्रेंड किस दिशा में है. शेयर के भाव बढ़ रहे हैं या फिर घट रहे हैं. अगर शेयर के भाव ऊपर बढ़ रहे हैं तो आपको उसे खरीद लेना चाहिए. या शेयर के भाव नीचे घटकर ऊपर बढ़ रहे हैं तो भी आपको खरीद लेना चाहिए इससे आपको अच्छी खासी इनकम मार्जिन मिल जाती है.

शेयर ट्रेडिंग के दौरान स्टॉप लॉस (Stop Loss) जरूर लगाएं :- आप इंट्राडे ट्रेडिंग पर शेयरों को खरीदने के बाद इस बात का ध्यान रखें कि आप उसी दिन स्टॉप लॉस जरूर लगा दे. जब भी आप कोई भी शेयर को ट्रेड करने के लिए स्टेटस जी बनाते हैं तो स्टॉपलॉस का अवश्य ध्यान रखें. क्योंकि ट्रेड लेने के लिए रणनीति बनाना जितना आवश्यक होता है उतना ही ट्रेड से निकलने के लिए भी रणनीति बनाना जरूरी होता है. स्टॉप लॉस आपके संभावित लॉस को सीमित करने में लाभदायक होता है.

एंट्री लक्ष्य को भी निर्धारित करें :- किसी भी शेयर की ट्रेडिंग लेने से पहले शेयर का एंट्री और लक्ष्य निर्धारित कर लें. जब भी आप शेयर मार्केट पर इंट्राडे ट्रेडिंग करते हैं तुरंत अपना टारगेट भी जरूर लगा दें. कोशिश करें कि दोबारा आप इस ट्रेड पर शेयर ना लगाएं.

इंट्राडे ट्रेडिंग में शेयर का विश्लेषण जरूरी है :- जैसा कि हमने इस बारे में ऊपर जिक्र किया है, इंट्राडे ट्रेडिंग में आपको शेयर एक ही दिन में खरीद करके उसी दिन बेचना होता है. इस चलते आपको शेयर का विश्लेषण करना भी जरूरी है. इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए अधिक लिक्विड वाली शेयर को आप सुन सकते हैं. अगर शेयर में लिक्विडिटी ज्यादा रहेगी तो उस शेयर को खरीद और बिक्री अधिक होती है. इसलिए कोशिश करें कि अधिक लिक्विडिटी वाली शेयर को खरीदें.

ओवरट्रेडिंग से बचें :- ओवरट्रेडिंग कभी भी ना करें. अर्थात अपनी हैसियत से ज्यादा का शहर कभी भी ना खरीदें. 1 दिन में दो या तीन ट्रेड ही खरीदें. अधिक लाभ कमाने के चक्कर में ओवरट्रेडिंग करने से कई बार नुकसान भी हो जाता है.

इस बात का ध्यान रखें कि इंट्राडे ट्रेडिंग कम से कम करें क्योंकि इसमें नुकसान होने के बहुत अधिक संभावना होती है. उतने ही पैसे में इंट्राडे ट्रेडिंग में पैसे लगा है जो कि आप की आर्थिक स्थिति पर कोई प्रभाव ना डालती हो. इंट्राडे ट्रेडिंग जोखिमों से भरा होता है, यह निश्चित नहीं होती की जितने पैसे आपने लगाए हैं उतना ही ज्यादा आपको लाभ मिले. शेयर मार्केट के भाव कभी भी गिर सकते हैं. और कभी भी शेयर मार्केट के भाव ऊपर चढ़ सकते हैं. इसीलिए सोच समझकर के इंट्राडे ट्रेडिंग में पैसे लगाएं.

इंट्रा-डे ट्रेडिंग का मतलब जलती आग पर चलना

इंटरा डे ट्रेडर के पास समय का आभाव या समय सीमित होना (What is Intrasday Trading)

intra Day Trading Strategies For Beginners in hindi

इंट्रा डे ट्रेडिंग में ट्रेडर के सामने समस्या समय की होती है क्योंकि ट्रेडर को सौदा उसी दिन खरीदकर उसी दिन बेचना होता है जैसे की अपने कोई शेयर 10 रुपए में खरीदा और एक घंटे बाद कोई ऐसी खबर आई, जिससे बाजार में मुनाफावसूली शुरू हुई और आपका शेयर नीचे की ओर लुढ़कने लगा। मान लीजिये दोपहर 1 बजे तक वो शेयर 8 रुपए तक गिर गया और मार्किट बदन होता है 3:15PM पर बंद हो जाता है इसलिए आपको वो सौदा इससे पहले-2 आपको बेचना ही पड़ेगा क्योंकि कैरी फॉरवर्ड तो आप कर नही सकते और कोई भी मार्किट हो एक बार डाउन ट्रेंड चालू हो गया तो समझो की उसके ट्रेंड में फेरबदल होना काफी मुस्किल होता है (किसी खास परिस्थिति को छोडकर) क्योंकि इस बात का किसी को पत्ता नही होता की आपका शेयर कब अपट्रेंड में ट्रेड करे। इसलिए काफी ट्रेडर इंट्रा डे में लोस बुक करते हैं और अपनी पूंजी गवां बैठते हैं।

लॉन्ग टर्म की तरह इंटरा डे में एंट्री-एक्जिट प्वाइंट रामबाण की तरह (How to Put Slop Loss Exit Point In Intraday Trading)

इंट्रा डे ट्रेडिंग करते समय दो बातों का खास खयाल रखना चाहिए- पहला- एंट्री और एक्जिट प्वाइंट निश्चित करने के बाद सौदा कीजिए। उसे बिलकुल मत बदलिए। एंट्री और एक्जिट प्वाइंट को अनुमान के आधार पर नहीं बल्कि विश्लेषण के आधार पर निश्चित कीजिए। दूसरा- इंट्रा डे ट्रेडिंग करते समय हमेशा आपकी उंगली स्टॉप लॉस के बटन पर होनी चाहिए। जैसे ही आपने सौदा किया, फौरन स्टॉप लॉस सेट कर दीजिए। क्योंकि कई बार ऐसा होता है कि आपने स्टॉप लॉस लगाने में सुस्ती इंट्राडे ट्रेडिंग करने का Tips दिखाई और कुछ ही मिनट के अंदर बाजार ने यू टर्न ले लिया। और जितनी देर में आप चाय पीकर वापस लौटे तो पता चला कि शेयर की कीमत आपके स्टॉप लॉस से भी दो फीसदी नीचे चली गई। ऐसी सूरत बड़ी खतरनाक होती है क्योंकि मुनाफा तो दूर, आप मनचाहे स्टॉप लॉस के प्वाइंट पर भी सौदा नहीं निपटा सकते हैं।

इंट्रा-डे में जोखिम क्यों ज्यादा होता है (Why Intraday Trading is Risky)

यहां कहने का मतलब ये बिलकुल नहीं है कि इंट्रा डे ट्रेडिंग नहीं करना चाहिए। लेकिन सोते जागते हमेशा याद रखिए इंट्रा डे सबसे मुश्किल और सबसे जोखिम भरी ट्रेडिंग है। विडंबना है कि इसमें शामिल ट्रेडर्स का एक बड़ा तबका इंट्रा डे ट्रेडिंग की तकनीक और जानकारी से वंचित इंट्राडे ट्रेडिंग करने का Tips होता है। इंट्रा डे लुभावना दिखता है। इसलिए नौसिखिए और अनाड़ी ट्रेडर्स बिना जानकारी के इसमें कूद पड़ते हैं। वे इसे वन-डे लॉटरी की तरह समझते हैं। जब तक अक्ल खुलती है तब तक वे अपनी पूंजी का बड़ा हिस्सा गंवा चुके होते हैं। इसलिए मेरी सलाह है कि नए निवेशकों को शुरूआत में इंट्रा डे ट्रेड नहीं करना चाहिए। शुरूआत लॉन्ग टर्म से कीजिए। फिर शॉर्ट टर्म ट्रेडिंग और जब आप ट्रेडिंग के उस्ताद बन जाएं तभी इंट्रा डे के मैदान में आएं।

क्यों न करें नये निवेशक इंट्रा डे ट्रेडिंग? (What do or don;t when trading intraday trding)

नए निवेशकों को शुरूआत में इंट्रा-डे ट्रेड नहीं करना चाहिए। शुरूआत लॉन्ग टर्म से कीजिए। फिर शॉर्ट टर्म ट्रेडिंग और जब आप ट्रेडिंग के उस्ताद बन जाएं, तभी इंट्रा-डे के मैदान में आएं। तो ट्रेडिंग में हाथ जलने की संभावना कम रहेगी। इंट्रा-डे ट्रेडिंग करते समय दो बातों का खास खयाल रखना चाहिए- पहला, एंट्री व एक्जिट प्वाइंट निश्चित करने के बाद ही सौदा कीजिए और दूसरा, ट्रेडिंग के समय हमेशा उंगली स्टॉप लॉस तय करने के लिए बटन पर हो और एक अहम महत्वपूर्ण बात कभी भी ओवर ट्रेडिंग न करे। मान लिजिय आपके पास 100 रूपये हैं और आप आपको लगता है की आप इंटर डे ट्रेडिंग कर सकते हो तो पूरी प्लानिंग के साथ करे कितने टाइम लिमिट लेना है कितने प्रतिशत स्टॉप लोस निर्धारित करना।

भारतीय शेयर बाजार में इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए शेयर ट्रेडिंग टिप्स (intraday trading tips in hindi)

इस हिंदी पोस्ट में, हम कुछ महत्वपूर्ण टिप्स सूचीबद्ध कर रहे हैं जो आपके इंट्राडे ट्रेडिंग में आपकी मदद कर सकते हैं। In this hindi post, we are listing a few important tips that can help you in your intraday trading.

भारतीय शेयर बाजार में इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए शेयर ट्रेडिंग टिप्स (intraday trading tips in hindi)

1) संभावित नुकसान को कम करने के लिए हमेशा स्टॉप-लॉस ट्रिगर (Stop-Loss Trigger) लगाकर ट्रेड करें।

2) कुल पूंजी हानि (Capital loss) को सीमित करने के लिए प्रत्येक ट्रेड के लिए अपनी इंट्राडे पूंजी का 10% से कम निवेश करें।

3) उन कंपनियों के दो या तीन लिक्विड स्टॉक(liquid stocks) में ही ट्रेड करें, जिनसे आप अच्छी तरह वाकिफ हैं।

4) बाजार के रुझानों (Market trends) की तलाश करें और दिन के कारोबार के दौरान इसका follow करें।

5) पहले से रणनीति (Strategy) बनाएं। इंट्राडे ट्रेडिंग मानसिकता (intraday trading mindset) और दीर्घकालिक निवेश मानसिकता (longterm investing mindset) में भ्रमित न हों।

6) भावनाओं को दूर रखें। नुकसान की भरपाई के लिए ज्यादा दांव लगाकर रिवेंज ट्रेडिंग (revenge trading) न करें।

7) लक्ष्य मूल्य (Target Price) तक पहुंचने पर लाभ बुक (Profit book) करें और बाजार को चुनौती न देने का प्रयास करें।

8) बाजार बंद होने से पहले सभी खुली पोजीशन (Open position) बंद करना याद रखें।

रेटिंग: 4.68
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 239
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *